कौन है जो गुजरात से शराब बंदी ख़त्म करना चाहता है क्यों ? ROYAL GUJARAT NEWS (RGtv)

 

गुजरात में शराब बंदी सिर्फ कागजो पर ही है ये मानना है अतुल दवे का इनका कहना है जितना शराब गुजरात में अवैध रूप से बेचीं जाती है और अवैध रूप से लोग शराब पीते है उतना किसी राज्य में नहीं पिया जाता होगा जिससे गुजरात सरकार को सालिना करोडो का रेवन्यु का नुकसान होता है. अतुल दवे पीछेले कई वर्षो से गुजरात में शराब शुरू बंदी ख़त्म हो इस तरह की कई मुहीम चलाते आये है गुजरात के हर जिले से इस मुहीम में लोग इनका साथ दे रहे है.
अतुल दवे का मानना है की गांधी जी के नाम पर सिर्फ गुजरात की जनता को बेवकुफ बनाया जा रहा है
राजनितिक दाल इसमें सिर्फ चुनावी फायदे के लिए गुजरात की जनता के साथ अन्याय किया जाता है.
सुरुवाती दौर में अतुल दवे की इस मुहीम को लोग पागल पन समझते थे लेकिन जब सचाई अतुल दवे ने जनता के सामने रखा मुद्दों के साथ तो लोग बड़ी संख्या में अतुल दवे की इस मुहीम में जुड़ने लगे.
आज अब एक दौर इस तरह का देखने को मिला की कुछ दिनों पहले गुजरात के पुर्व मुख्य मंत्री भी इस बात को स्वीकार किये और उन्होंने अपनी राजनितिक रोटी सेकने के लिए गुजरात की जनता को केह डाला की गुजरात में शराब बंदी हटानी चाहिए.इसका मतलब साफ है की अतुल दवे की मुहीम का असर देखने को मिला.